चार बार के गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड विजेता स्टंटमैन एसके चौधरी बोेकारो थर्मल के श्रीराम गेस्ट हाऊस के कमरे मेें मृत पाये गये

20 हजार शो कर वर्ल्ड रिकार्ड बनाने का सपना अधूरा रह गया।

बेरमो।अपने हैरत अंगेज कारनामों से लोगों को दांतों तले अंगुली दबाने को विवश कर देने वाले तथा चार बार के गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड के विजेता त्रिपुरा निवासी 65 वर्षीय एसके चैधरी बोकारो थर्मल जीएम काॅलोनी स्थित श्रीराम गेस्ट हाऊस के कमरा नंबर 101 में मृत पाये गये.सूचना पाकर स्थानीय थाना के इंस्पेक्टर उमेश कुमार ठाकुर ने गेस्ट हाऊस जाकर जांच की और कमरे के बेड पर एसके चैधरी का शव देखा.जांचोपरांत एसके चैधरी मृत पाये गये।

बोकारो थर्मल का शो आखिरी शो साबित हुआ

चार बार के गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड विजेता एसके चैधरी का 28 फरवरी को बोकारो थर्मल स्थित सीआईएसएफ यूनिट में शाम को किया गया शो अंतिम शो साबित हुआ.शो मैन एसके चैधरी का 20 हजार शो पूरा कर वल्र्ड रिकार्ड बनाने का सपना अधूरा ही रह गया.एसके चैधरी ने 28 फरवरी को बोकारो थर्मल स्थित सीआईएसएफ यूनिट में में कई हैरतअंगेज कारनामे किए.श्री चैधरी ने अपने दांतों से 20 किलो का बटखरा उठाकर सीआईएसएफ अधिकारियों,जवानों एवं वहां पर मौजूद दर्शकों को रोमांचित किया.एसके चैधरी के द्वारा अपने बाल से बंधी रस्सी के सहारे एक बड़ी बस को भी खींचा था.शो करते समय एसके चैधरी का हालत ठीक नहीं थी और उनका सांस भी काफी फूल रहा था.उनकी अवस्था एवं बीमारी को देखते हुए सीआईएसएफ के डिप्टी कमांडेंट आलोक कुमार ने शो बीच में ही बंद करवा दिया था।

29 फरवरी को करगली सीआईएसएफ यूनिट में करना था शो

बोकारो थर्मल से 29 फरवरी को एसके चैधरी सीसीएल बीएडंके के सीआईएसएफ करगली यूनिट में अपना शो करने गये थे।परंतु बीमार होने की वजह से यूनिट के कमांडेंट ने शो करवाने से मना कर दिया था.29 फरवरी को ही एसके चैधरी फिर बोकारो थर्मल आकर जीएम काॅलोनी स्थित श्रीराम गेस्ट हाऊस के कमरा नंबर 101 में रहकर डीवीसी के अवकाश प्राप्त डाॅ हेमंत कुमार से अपना इलाज करवा रहे थे.गेस्ट हाऊस के मालिक अरविंद कुमार का कहना था कि बीमार होने की वजह से गेस्ट हाउस के कर्मचारी सारा दिन उनका ख्याल रखते थे.बुधवार को उनका टिकट त्रिपुरा के लिए करवाया हुआ था.इसी बीच मंगलवार की शाम में कमरे में उनका शव पाया गया।

प्रोत्साहन राशि से चला रहे थे अनाथालाय

एसके चैधरी 16 वर्ष की आयु से इस तरह के करतब करते आ रहे थे.बोकारो थर्मल में उनका 17987 वां शो था.उन्होंने कहा था कि उन्हें वल्र्ड रिकार्ड बनाने के लिए 20 हजार शो करने हैं.बताया था कि शो के बाद मिली प्रोत्साहन राशि से अनाथ बच्चों का भरण-पोषण करते हैं.दक्षिण त्रिपुरा में सीता शिशु निकेतन नामक अनाथालय संचालित करते थे.इसमें करीब 700 से अधिक बच्चे हैं.अनाथ बच्चों की देखभाल के लिए वह पोर्ट ब्लेयर के स्टेट स्पोर्ट्स अफसर की नौकरी छोड़ चुके थे..65 वर्ष की आयु वाले एसके चैधरी नौ वर्ष पूर्व उड़ीसा से एडीएम की नौकरी से रिटायर कर चुके थे.पेंशन से मिलनेवाली 55 हजार रुपये तथा गिनीज बुक से सलाना तीन लाख रुपये की राशि से वे अनाथालय में बच्चों के लालन पालन पर ही खर्च करते थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.